Advertisement

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने देश की टीम की कप्तानी करना किसी भी क्रिकेटर के लिए फखर की बात होती है. ना जाने कितने ही ऐसे क्रिकेटर होते हैं जिन्हे लम्बे समय तक खेलने के बाद भी टींम की कप्तानी करने का सौभाग्य नहीं मिल पाता.

Advertisement

वहीं कई क्रिकेटर ऐसे खुशनसीब भी होते हैं जिन्हे पहले मैच में ही ये सौभाग्य प्राप्त हो जाता है. ऐसे ही कुछ भारतीय क्रिकेट के बारे में आज हम बात कर रहे हैं. जिन्हे विभिन्न प्रारूपों में अपने पहले ही मैच में कप्तानी करने का मौका मिला.

1. सीके नायडू
पहले भारतीय कप्तान के तौर पर सीके नायडू का नाम आता है. 1932 में भारतीय क्रिकेट टीम ने अपना पहला टेस्ट खेला. इस मैच में भारत के कप्तान सीके नायडू थे. इस तरह से उन्हे डेब्यू मैच में ही कप्तानी का अवसर मिल गया.

2. महाराजकुमार ऑफ विजयानाग्राम
1936 में भारतीय क्रिकेट टीम का कमान विजयानाग्राम के महाराजकुमार विजय आनंद गजापति राजू को सौंपी गई. इससे पहले वह यूनाइटेड प्रोविंस के लिए खेले थे. टीम इंडिया में उनकी एंट्री बतौर कप्तान हुआ. उन्होने 3 मैच खेले.

3. द नवाब ऑफ पटौदी
1936 से 1946 तक भारतीय क्रिकेट टीम ने कोई भी मैच नहीं खेला. 1946 में भारत के इंग्लैंड दौरे के लिए टीम में बतौर कप्तान पटौदी रियासत के नवाब इफ्तिखार अली खान को शामिल किया गया. जो कि इससे पहले इग्लैंड के लिए क्रिकेट खेल चुके थे. बड़े नवाब केवल 3 मैचों के लिए ही टीम इंडिया का हिस्सा रहे.

4. अजित वाडेकर
टीम इंडिया ने अपना पहला वनडे मैच खेला 1974 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला. इस मैच में भारतीय टीम की कमान अजित वाडेकर के हाथ में थी. वाडेकर भारत के पहले एकदिवसीय में कप्तानी करने वाले खिलाड़ी हैं.

5. वीरेंद्र सहवाग
2006 में टीम इंडिया ने अपना पहला टी-20 मुकाबला खेला. इस मैच में भारतीय टीम के कप्तान वीरेंद्र सहवाग थे. चूकिं पूरी टीम ही इस मैच से टी20 में डेब्यू कर रही थी. ऐसे में सहवाग के नाम ये रिकॉर्ड दर्ज हो गया. इस मैच में भारत ने साउथ अफ्रीका को 5 विकेट से हराया था.

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *