Advertisement

पाकिस्तान के खिलाफ लड़े गए कारगिल युद्ध में भारत की जीत को आज (26 जुलाई) 23 बरस हो चुके हैं. 1999 में भारतीय सेना ने 60 दिन से ज्यादा चली इस जंग पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया था. इस जंग का असर भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट पर भी पड़ा था और रिश्तों में तो खटास आई थी. लेकिन क्या आप उस पाकिस्तानी क्रिकेटर के बारे में जानते हैं जो करगिल की लड़ाई में भारत पर हमला करने वाला था. इस खबर में हम आपको उसी खिलाड़ी के बारे में बताएंगे.

Advertisement

करगिल की जंग साल 1999 में मई से जुलाई के बीच लड़ी गई थी, जिसमें भारत ने 26 जुलाई को अपनी जीत का बिगुल फूंका था. इस जंग पर भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों ने काफी बयान दिए थे. इन्हीं में पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का नाम भी शामिल है. उन्हें करीब दो साल पहले ही खुलासा किया था कि वह दो बार भारत के खिलाफ कारगिल में जंग लड़ने गए थे, लेकिन उन्हें मौका नहीं दिया गया था.

For Heaven's Sake I Need to Finish This' - Shoaib Akhtar Reveals Training  Harder to Bowl at 100 MPHशोएब अख्तर ने पाकिस्तान के न्यूज चैनल ARY News से बातचीत में कहा था, ‘ बहुत कम लोगों को पता है कि उस जमाने में नॉटिंघम काउंटी क्लब के साथ मेरा 1 करोड़ 16 लाख रुपये का एक करार हुआ था, लेकिन करगिल युद्ध में पाकिस्तान से लड़ने के लिए मैंने ठुकरा दिया था. मैं लाहौर में आकर खड़ा हो गया था. जनरल मेरे साथ आए कहा कि तू यहां क्या कर रहे हो. मैंने कहा कि जंग शुरू होने वाली है. मरेंगे तो साथ ही मरेंगे. देख लेंगे सबको. मैं दो बार लड़ने के लिए गया था.’

शोएब अख्तर ने ये भी खुलासा किया था की उन्होंने कश्मीर में अपने एक दोस्त को फोन कर युद्ध लड़ने के लिए तैयार रहने को कहा था. उन्होंने कहा, ‘मैंने कश्मीर के दोस्त को फोन भी किया था और कहा था कि हथियार तैयार रखो, मैं आ गया हूं. मेरी बीवी ने हाथ जोड़कर कहा कि खुदा के वास्ते रहने दीजिए. फिर भारत का हमला हुआ और काफी नुकसान हुआ.’

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *