Advertisement

टेस्ट क्रिकेट की शुरूआत 1877 में हुई थी. पहला मैच ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला गया.

Advertisement

तब अब तक करीब 3000 से ज्यादा खिलाड़ी इस क्रिकेट के इस प्रारूप का हिस्सा बन चुके हैं. लेकिन इन खिलाड़ीयों के बड़ी फेहरिस्त के बीच बांग्लादेश महमदुल्ला एक अनूठा रिकॉर्ड बनाने के करीब हैं. ऐसा रिकॉर्ड जो इतिहास के 144 सालों में इससे पहले कभी नहीं बना.

बांग्लादेश टी20 क्रिकेट टीम के महमूदुल्लाह टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर अपने देशवासियों और क्रिकेट बोर्ड को चौंका दिया था. बताया जा रहा है कि उन्होंने टीम मैनेजमेंट को सूचित कर दिया है कि वह अब टेस्ट करियर को आगे बढ़ाने के इच्छूक नहीं हैं. हालांकि, अभी तक महमूदुल्लाह ने आधिकारिक रूप से बांग्लादेश बोर्ड को इसके बारे में सूचना नहीं दी है, लेकिन जल्द ही वह आधिकारिक रूप से इसका ऐलान कर सकते हैं.

यह फैसला उन्होने तब जब जिम्बाब्वे के खिलाफ उन्होने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. 35 वर्षीय महमूदुल्लाह ने इस टेस्ट में 150 रनों की नाबाद पारी खेली. उन्हे मैन ऑफ द मैच दिया गया.

अगर टेस्ट से अपने संन्यास लेने के फैसले पर कायम रहते हैं, तो वह टेस्ट इतिहास के पहले ऐसे खिलाड़ी बन जाएंगे, जिन्होंने अपने करियर के पहले ही टेस्ट में एक पारी में पांच विकेट चटकाए, तो आखिरी टेस्ट में शतक जड़ा. महमूदुल्लाह ने करियर के पहले टेस्ट में कुल मिलाकर आठ विकेट चटकाए थे. वहीं, जिंबाब्वे के खिलाफ हरारे में उन्होंने पहली पारी में आठवें नबर पर बल्लेबाजी करते हुए नाबाद 150 रन की पारी खेली.

महमूदुल्लाह ने अपने टेस्ट करियर में 50 मैच खेले हैं. उन्होंने इन मैचों में 33.49 के औसत से अभी तक 2914 रन बनाए हैं. इस दैरान 150 रन उनका उच्चतम स्कोर रहा है, अगर महमूदुल्लाह संन्यास से जुड़े रहते हैं, तो वह एक ऐसी उपलब्धि के साथ रिटायर होंगे, जिसे तोड़ना किसी के लिए भी बेहद कठिन होगा.

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *