जूते खरीदने के नहीं थे पैसे, नंगे पैर खेलता था क्रिकेट, अब बना पीएसएल का सर्वेश्रेष्ठ गेंदबाज – The Focus Hindi

जूते खरीदने के नहीं थे पैसे, नंगे पैर खेलता था क्रिकेट, अब बना पीएसएल का सर्वेश्रेष्ठ गेंदबाज

दुबई में खेली गई पाकिस्तान सुपर लीग के छठे सीजन का खिताब मुल्तान सुल्तान ने जीता.

टीम को पहली बार ट्रॉफी जिताने में 22 साला तेज गेंदबाज शाहनवाज दहानी का अहम किरदार रहा, दहानी 11 मैचों में 20 विकेट लेकर इस सीजन के मोस्ट विकेट टेकर बॉलर रहे. उन्हें बेस्ट एमर्जिंग प्लेयर का भी अवॉर्ड दिया गया. विकेटों के मामले में उन्होंने वहाब रियाज, शाहीन अफरीदी और जेम्स फॉल्कनर जैसे स्टार खिलाड़ियों को पीछे छोड़ दिया.

पाकिस्तान की टी-20 लीग में मिली इस कामयाबी तक का दहानी का सफर आसान नहीं रहा. लरकाना डिस्ट्रिक्ट के एक छोटे से गांव खुहावर खान दहानी से आने वाले इस गेंदबाज शुरूआत काफी संघर्ष भरी रही. अपने शुरूआती दिनों में वह अपने गांव के उबड़-खाबड़ मैदान पर नंगे पैर टेप बॉल के क्रिकेट खेलते थे.

दहानी ने जियो न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि वह तेज गेंदबाजी को लेकर बहुत जुनूनी थे। उनकी गेंदबाजी स्पीड को देखकर गांव वालों ने उनका नाम 3G रख दिया था.

दहानी ने बताया कि उन्हें प्रोफेशनल क्रिकेट के बारे में कुछ नहीं पता था. यह भी नहीं कि प्रोपर क्रिकेट खेलने के लिए किन-किन चीजों की जरूरर होती है. एक दिन उनके के गांव में कुछ मेहमान आए और उन्होंने उसे टेप बॉल से गेंदबाजी करते हुए देखा. इसके बाद अगले ही दिन दहानी को अंडर-19 के ट्रायल के लिए भी बुलावा आ गया.Shahnawaz Dhani Archives - Page 3 of 5 - Batting with Bimalजब दहानी को ट्रायल के लिए बुलाया, तब उनके पास जूते तक नहीं थे. अपने एक दोस्त से जूते उधार लेकर वह ट्रायल के लिए गए थे, जिसके बाद उन्हें इंटर-ड्रिस्टिक्ट अंडर-19 मुकाबले खेलने का मौका मिला.  दहानी ने अब तक 8 फर्स्ट क्लास. 6 लिस्ट ए और 11 टी-20 मुकाबले खेले हैं. जिसमें उन्होंने क्रमश: 27, 5 और 20 विकेट चटकाए हैं.

दहानी का सपना पाकिस्तान के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने का है. देश के टी-20 लीग में शानदार प्रदर्शन के बाद अब शायद जल्द ही उन्हें पाकिस्तान की जर्सी में भी खेलने का मौका मिले.

Leave a Comment