Advertisement

अय्यर ने आईपीएल के इस सीजन में कमाल की बल्ल्लेबजी की है.

Advertisement

कोलकाता टीम के लिए धुरी बन गये अय्यर ने दिल्ली के खिलाफ अर्द्धशतक जड़कर टीम को फ़ाइनल में पहुँचाने में अहम् भूमिका निभाई. वेंकटेश अय्यर को उनकी आक्रामक बल्लेबाजी के कारण उन्हें भारत की विश्व कप टीम में भी जगह दी गयी है. युवा बल्लेबाज वेंकटेश अय्यर ने इस सीजन में खेले 9 मैचों में 40.00 की शानदार औसत से 320 रन बनाए.

इस दौरान उन्होंने तीन अर्धशतकीय पारी खेलीहैं. वहीं केकेआर इन 9 में से 7 मुकाबले में जीत दर्ज की है. दिल्ली के खिलाफ क्वालीफायर 2 में जहां बल्लेबाज जूझते हुए दिखाई दे रहे थे, वहीं उस मैदान पर वेंकटेश अय्यर ने 41 गेंदों पर 4 चौकों और तीन गगनचुंबी छक्कों की मदद से 55 रन की अर्धशतकीय पारी खेल डाली.

ऑलराउंडर (All-rounder Venkatesh Iyer) वेंकटेश अय्यर की उम्र अभी केवल 26 साल है और वे मध्यप्रदेश के इंदौर के रहने वाले हैं. वेंकटेश अय्यर ने अभी सिर्फ 38 घरेलू टी20 के मुकाबले खेले हैं. इस दाएं हाथ के तेज गेंदबाज ने 21 विकेट भी चटकाए हैं.

IPL 2021: वेंकटेश अय्यर की बैटिंग का सौरव गांगुली कनेक्शन, दादा के कारण यूं बदली युवा बल्लेबाज की जिंदगी | IPL 2021: Sourav Ganguly indirectly played huge role in my life, saysवेंकटेश ने बल्लेबाजी करते हुए इस दौरान 36 की औसत से 724 रन बनाए हैं. जिसमें 2 अर्धशतक भी शामिल है. इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उनका स्ट्राइक रेट 138 का है, जो टी20 के लिहाज से बेहद अच्छा माना जाता है.

इसके अलावा उन्होंने 10 फर्स्ट क्लास मैच भी खेलें हैं, जिसमें 545 रन, 7 विकेट और 24 लिस्ट मैच में 849 रन और 10 विकेट हासिल किये हैं. 25 दिसंबर 1994 को जन्मे अय्यर के पिता का नाम राजशेखरन अय्यर है.

अय्यर को 2018 में बेंगलुरु में अपने भारत मुख्यालय में “बिग फोर” अकाउंटिंग फर्म डेलॉइट के साथ नौकरी मिली. हालांकि अय्यर ने इस प्रस्ताव को छोड़ दिया, जिसका उन्हें अंततः पछतावा नहीं होगा. क्योंकि उन्होंने जल्द ही अपना उसी साल दिसंबर में मध्य प्रदेश के लिए रणजी ट्रॉफी की शुरुआत की.

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *