Advertisement

बीसीसीआई दुनिया का सबसे अमीर क्रिकेट बॉर्ड माना जाता है.

Advertisement

अगर बोर्ड पैसे वाला है तो ज़ाहिर है खिलाड़ियों पर भी खूब धनवर्षा होती होगी. सालाना कॉन्ट्रैक्ट, मैच फीस, मैच बोनस और विज्ञापन-शिज्ञापन लगाकर भारतीय क्रिकेटर्स करोड़ो की कमाई करते हैं. बीसीसीआई ने टीम के खिलाड़ियों को सैलरी देने के लिए सैंट्रेल कॉन्ट्रैक्ट को चार कैटिगरी में बांटा हैं.

बीसीसीआई के सालाना कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक ए+ के खिलाड़ियों को 7 करोड़ रुपये मिलते हैं, जबकि ग्रेड A के खिलाड़ियों का करार 5 करोड़ रुपये का है. ग्रेड-बी और सी के खिलाड़ियों को क्रमशः 3 करोड़ और 1 करोड़ रुपये मिलते हैं. इस लिस्ट में टीम के कप्तान विराट कोहली रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह को ए ग्रेड कॉन्‍ट्रेक्‍ट दिया गया है. इस हिसाब से इन तीनों खिलाड़ियों को पूरे साल में 7 करोड़ रुपये दिए जाएंगे.

इन खिलाड़ियों को बीसीसीआई सालाना कॉन्ट्रैक्ट के अलावा मैच फीस भी देती है, जिसमें हर मैच की फीस होती है. टीम इंडिया के खिलाड़ियों को एक टेस्ट खेलने के 15 लाख रुपये मिलते हैं. जबकि एक वनडे के 6 लाख और एक टी20 के 3 लाख रुपये मिलते हैं.

एक टी20 मैच तीन घंटे का होता है ऐसे में केवल 3 घंटे खेलने के लिए ही खिलाड़ियों को 3 लाख की रकम मिल जाती है. इसके अलावा जो मैच में नहीं खेल रहे होते हैं उन्हें इसके आधे पैसे मिलते हैं. इस बात का खुलासा पूर्व बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने अपने यूट्यब चैनल पर किया है.

टीम इंडिया के टेस्ट खेलने वाले खिलाड़ियों को इसके अलावा ‘बोनस मनी’ भी दी जाती है. अगर कोई खिलाड़ी मैच में दोहरा शतक लगाता है तो उसे 7 लाख रुपये और मिलते हैं. इसके अलावा और कोई खिलाड़ी शतक लगाता है तो उसे 5 लाख रुपये और अगर 5 विकेट भी लेता है तो इतना ही पैसा दिया जाता है. ये पैसा मैच फीस से अलग होता है.

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *