अपने घर की नौकरानी से ओमपुरी ने बनाए थे संबंध, इसके बाद जिंदगी में आई दूसरी औरत और फिर.. – The Focus Hindi

अपने घर की नौकरानी से ओमपुरी ने बनाए थे संबंध, इसके बाद जिंदगी में आई दूसरी औरत और फिर..

अभिनेता ओमपुरी ने अपनी अदाकारी से अच्छे कलाकारों में अपना नाम शुमार करवाया है। उनकी फिल्में समाज को अलग संदेश देती थी। लेकिन अपनी निजी जिंदगी में वो काफी दर्द से गुजरे। आखिरी वक्त में उनके पास कोई ना था। एक नामी शख्सियत का इस तरह से दुनिया से जाना उनके फैंस के लिए किसी धक्के से कम ना था। आज हम अपने इस पोस्ट के जरिए आपको बताएंगे कि ओमपुरी की जिंदगी के वो अनसुने राज कौन से हैं जो उनका दुनिया से जाने के बाद भी पीछा नहीं छोड़ रहे हैं।

Om Puri - Wikipedia

ओमपुरी ने दो शादियां की थी। लेकिन दोनों ही शादियां उन्हें रास नहीं आई। उनकी दूसरी पत्नी नंदिता ने ओमपुरी के ऊपर एक किताब लिखी है। जिसका शीर्षक है ”अनलाइकली हीरो: द स्टोरी ऑफ ओम पुरी” किताब लिखी है। इस किताब में बड़े खुलासे किए गए हैं। ओमपुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 को हुआ था। बचपन तंगहाली में बीता रेस्टोरेंट में प्लेट साफ करने से लेकर ओमपुरी ने कोयला बीनने का भी काम किया। लेकिन जैसे ही उन्हें फिल्मी दुनिया में एंट्री मिली उन्होने पीछे मुड़कर नहीं देखा। लेकिन कई विवाद उनके साथ जुड़े ।

नौकरानी से बनाए थे संबंध
किताब की यदि माने तो ओमपुरी जब 14 साल के थे उनके उन्हीं के नौकरानी के साथ अंतरंग रिश्ते बन गए थे। उन्होंने इस बारे में बेबाकी से जवाब भी दिया था। ओमपुरी की माने तो उन्होंने खुद और नौकरानी को सामने रखते हुए पब्लिक से ही पूछ लिया कि आप ही बताए इस पूरे वाक्ये में 14 साल के लड़के का कुसूर है या फिर 55 साल की नौकरानी का। किताब में उस पूरे वाक्ये के बारे में विस्तार से लिखा गया है। ओमपुरी उन दिनों अपने मामा के यहां पर थे।इसी दौरान घर की लाइट चली गई। नौकरानी पहले से ही ओमपुरी पर निगाह गड़ाए बैठी थी. लिहाजा लाइट जाने के बाद उसने ओम को जकड़ लिया और कमरे में ले जाकर संबंध बनाए। इस वाक्ये के बाद ओमपुरी और नौकरानी कई बार नजदीक आए और ऐसा कहा जाता है कि नौकरानी ही ओमपुरी की पहला प्यार थी ।

दूसरी बार हुआ जब प्यार
नौकरानी के प्यार में पागल ओमपुरी के जिंदगी में कुछ समय बाद एक दूसरी औरत आई । लेकिन उस वक्त ओमपुरी 37 साल के हो चुके थे। ओमपुरी की माने तो उस समय पिता जी 80 साल के थे। उनकी देखभाल के लिए कोई नहीं था। तभी उनके घर पर एक तलाकशुदा महिला आई। जो पिताजी की सेवा करने के लिए राजी हो गई। इस दौरान ओमपुरी की शादी नहीं हुई थी। लिहाजा पिताजी की सेवा के साथ साथ महिला ने ओमपुरी की भी सेवा की। इन दोनों वाक्यों का जिक्र ओमपुरी की पत्नी की किताब में था। जब ये किताब सामने आई तो ओमपुरी भड़क गए।

किताब के कारण हो गया था तलाक
ओमपुरी ने जब अपनी जिंदगी की किताब पढ़ी तो उन्हें लगा कि फैंस के बीच उनकी अब बेइज्जती हो चुकी है। उनकी इन दोनों ही कहानियों ने ओमपुरी का रुतबा गिरा दिया है। इस बात को लेकर नंदिता और ओमपुरी में काफी बहस हुई और आखिरकार दोनों अलग हो गए।

Leave a Comment