Advertisement

बंगाली एक्ट्रेस व भारतीय जनता पार्टी की सदस्य श्राबंती चटर्जी (Srabanti Chatterjee) इन दिनों अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर काफी चर्चा में हैं।

Advertisement

बांग्ला अभिनेत्री ने 16 सितंबर को अपने पति रोशन सिंह से कोलकाता के अलीपुर कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दी थी। अब, रोशन ने दावा किया है कि तलाक के आवेदन को 12 दिन बीत चुके हैं और उन्हें अभी तक नोटिस नहीं मिला है। इतना ही नहीं, रोशन ने एक्ट्रेस पर कुछ चौंकाने वाले आरोप भी लगाए हैं। आइए आपको बताते हैं इस बारे में।

आपको बता दें रोशन सिंह, श्राबंती के तीसरे पति हैं। एक्ट्रेस की पहली शादी 2003 में राजीव कुमार विश्वास से हुई थी, जो एक बंगाली फिल्म निर्माता थे। हालांकि, वह 2016 में अलग हो गए। दूसरी बार उन्होंने 2016 में एक मॉडल कृष्ण व्रज से शादी की और 2017 में तलाक हो गया।

केबिन क्रू सुपरवाइजर रोशन और श्राबंती पहली बार जुलाई 2018 में कोलकाता के एक रेस्ट्रो-पब में मिले, फिर दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया था। इसके बाद दोनों ने 19 अप्रैल 2019 को शादी कर ली थी। वहीं, अब दोनों के रिश्ते में दरार की खबरें सामने आई हैं।

‘आनंदबाजार’ के साथ ऑनलाइन बातचीत में रोशन ने दावा किया है कि वह श्राबंती के कई दोस्तों के संपर्क में हैं जिनसे उन्हें पता चला है कि अभिनेत्री यह दावा करके उन्हें बदनाम कर रही हैं कि वह मोटे होने के कारण से’क्स करने में असमर्थ हैं।

वहीं उन्होंने स्वयं श्राबंती से इन आरोपों को नहीं सुना है| रोशन का दावा है कि जिन लोगों ने उन्हें जानकारी प्रदान की वह उनके विश्वसनीय मित्र हैं। रोशन ने यहां तक ​​दावा किया है कि श्राबंती ने लोगों को बताया है कि उन्होंने उनसे 1 करोड़ रुपये लिए हैं।

srabanti chatterjee divorce roshan singh: तीसरी बार तलाक ले रही हैं बांग्ला ऐक्ट्रेस श्राबंती चटर्जी, पति रोशन सिंह पर लगाए नामर्दी के आरोप? - Navbharat Timesउन्होंने यहां तक ​​​​कहा कि अभिनेत्री ने उनकी एक्स गर्लफ्रेंड को उनके बारे में शिकायत करने के लिए फोन किया था। यह कहते हुए कि, श्राबंती, जो एक भाजपा सदस्य हैं, उनके पास कुछ भी करने की पर्याप्त शक्ति है। उन्होंने आगे कहा कि, चूंकि वह अपने एक्स के संपर्क में नहीं हैं, इसलिए श्राबंती उन्हें तलाक के बारे में सूचित करने के लिए फोन क्यों कर रही हैं।

रोशन का दावा है कि, अगर श्राबंती को उनके खिलाफ कोई शिकायत है, तो उन्हें अदालत में बोलना चाहिए और ऐसी अफवाहें नहीं फैलानी चाहिए या उन्हें धमकी नहीं देनी चाहिए। उनका मानना ​​​​है कि, यह केवल चीजों को और जटिल कर रहा है।

Advertisement

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *